जलियांवाला बाग नरसंहार - LetsDiskuss
LetsDiskuss Logo
Gallery
Create Blog

जलियांवाला बाग नरसंहार

जैसा कि हम सभी जानते हैं 13 अप्रैल 1919 को ब्रिटिश अधिकारी जनरल डायर ने अमृतसर के जलियांवाला बाग में शांतिपूर्ण ढंग ढंग से आए हुए लोगों पर गोलियां चलवा दी। अधिकारिक घोषणा के हिसाब से 379 लोगों की हत्या हुई। यह लोग रोलेट एक्ट के विरोध में वहां पर शांतिपूर्ण ढंग से उसके विरोध में इकट्ठे हुए थे। इसके चलते सभी जगह पूरे भारत में उस समय लोग सड़कों पर आ गए और जगह जगह धरना प्रदर्शन किया। इस दिवस को लोगों ने काले दिवस के रूप में भी मनाया। रविंद्र नाथ टैगोर जी ने अंग्रेजी हुकूमत का दिया हुआ नाइट हुड की उपाधि भी लौटा दी। पूरे भारत में जनरल डायर की शर्मनाक डरपोक कायरता वाली हरकत का विरोध हुआ वकीलों ने अपना काम त्याग दिया जगह-जगह कॉलेज स्कूलों भी बंद हुए और एक नए आंदोलन नहीं रूप ले लिया। उस आंदोलन को ही असहयोग आंदोलन के रूप में उभर कर आया। आंदोलन अंग्रेजी हुकूमत के हर हरकत और हर परेशानी जो उसने हिंदुस्तानियों को दी के विरोध में था वह आंदोलन नवंबर 1920 से शुरू हुआ।

Satyendra Pratap

@ | Posted 21 Apr, 2019 | Sports

Posted By: Satyendra Pratap (Posted 21 Apr, 2019)

इंडियन प्रीमियर लीग


इंडियन प्रीमियर लीग भारत के अंदर के क्रिकेट का बेहद रोमांचक और बहुत ही प्रसिद्ध टूर्नामेंट हर साल अप्रैल-मई में …

View Full Story