-क्या आप सच में मुस्लिम हो- शाहरुख खान से ऐसा पूछना सही या ग़लत ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language



Blog

Sumil Yadav

Sales Manager... | Posted on | Entertainment


-क्या आप सच में मुस्लिम हो- शाहरुख खान से ऐसा पूछना सही या ग़लत ?


0
0




Content Writer | Posted on


शाहरुख खान ने पिछले साल गणपति जी अपने घर रखें, और इस साल भी अपने घर गणपति रखें | ये जनता ही है, जो किसी को प्रसिद्द भी बनती है, और किसी को बदनाम करना हो तो वो काम भी जनता बखूबी निभाती है | वैसे तो सभी को शाहरुख खान बहुत पसंद है, उसकी एक झलक देखने के लिए लोग आज भी उसके घर के बहार खड़े होते हैं | पर अगर सवाल उठाने की बात हो तो लोग उसके लिए भी पीछे नहीं हटते |


अब यही बात देख लीजिये शाहरुख खान ने अपने घर में गणपति जी विराजमान किये तो लोगों ने उनसे सवाल पूछ लिए कि वो मुस्लिम हैं,या नहीं ? इंसान को धर्म से बांटने वाले लोग बहुत है इस दुनिया में परन्तु इंसानियत किसी में नहीं है |

शाहरुख खान ने भगवान गणेश की मूर्ति के सामने प्रार्थना करते हुए अपने बेटे अबराम की तस्वीर को सोशल मीडिया पर शेयर किया और उसमें लिखा "हमारा गणपति 'पप्पा' घर में है, बस शाहरुख खान की कि गई यही पोस्ट लोगों को पसंद नहीं आई और उन्होंने कहा "यह ग़लत है, आप एक मुस्लिम हैं, तो गणपति दिवस क्यों मनाते हैं?"

Letsdiskuss
वैसे तो हमारे फिल्म इंडस्ट्री के किंग खान के लोग इतने दीवाने हैं, और शाहरुख खान सभी धर्म का आदर भी करते है | उनका अपने घर में गणपति जी को विराजमान करना धर्म के ठेकेदारों को खास पसंद नहीं आया और उन्होंने उन पर काफी सवाल उठाए | इससे पहले जन्माष्टमी पर दही की हांड़ी फोड़ने के खिलाफ उन पर फतवा तक जारी कर दिया गया था |

हम सिर्फ इतना जानना चाहते है, किसी और धर्म का पूजन करने से अगर किसी इंसान का धर्म भ्रष्ट हो जाता है, तो मुझे ऐसा लगता है, कि अधिकतर हिन्दू धर्म के लोग सभी मंदिर जाते हैं, तो इसका मतलब यह समझा जाएं कि हिन्दू धर्म के लोगों से भी यह सवाल होगा |

धर्म इंसानो ने बनाया है, और हर इंसान की अपनी इच्छा है वो किस धर्म को मानना चाहता है | हर इंसान का अपना अधिकार होना चाहिए कि उसको कौन सा धर्म मानना है और कौन सा नहीं | अगर शाहरुख खान ने अपने घर गणपति जी को रखा है, तो हमें उसकी सराहना करना चाहिए न कि उसका विरोध | यहां शाहरुख खान की एक अच्छाई है, कि वो अपने आप को हिन्दू और मुस्लमान के दायरे में न रखते हुए एक अच्छे इंसान की तरह खुद को दर्शाता रहा है |


0
0

Picture of the author