रक्षा बंधन का क्या महत्त्व है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language



Blog

Medha Kapoor

B.A. (Journalism & Mass Communication) | Posted on | others


रक्षा बंधन का क्या महत्त्व है ?


0
0




Creative director | Posted on


रक्षा बंधन अर्थात रक्षा का बंधन | यह त्यौहार केवल त्यौहार  नहीं है बल्कि रिश्तों का त्यौहार है, सम्बन्धो का त्यौहार है और प्रेम का त्यौहार है | इस दिन बहने बड़े शौक से अपने भाइयो की कलाई पर राखी बांधती  है और भाई अपनी बहनो को उनकी रक्षा का वचन देते हैं | भाई अपनी बहनो को उपहार भी देते हैं | इस दिन को जो ख़ास बनाता है वह  है भाई बहन का अपने रिश्तो के मोल को समझन, जी भर के एक दुसरे पर प्यार न्योछावर करना |


रक्षा बंधन मनाने का मोल  

हर त्यौहार को मनाने के पीछे उसके पीछे छुपी कोई कथा अवश्य होती है और इसी तरह रक्षा बंधन को मनाने के पीछे भी बहुत सी पौराणिक कथाएं हैं जिनमे से एक है यह :

महाभारत की एक कहानी को रक्षा बंधन की उतपत्ति माना जाता है | एक बार जब भगवान कृष्ण और पांडव पतंग उड़ा रहे थे तो पतंग की डोरी से कृष्ण जी की उंगली में चोट लग गयी जिसे देख झट से द्रौपदी ने उनके घाव पर अपनी साड़ी का एक टुकड़ा फाड़ बाँध दिया जिससे कृष्ण जी भावुक हो गए और उन्होंने द्रौपदी को रक्षा का वचन दिया | जब भरी सभा में द्रौपदी का चीर हरण हो रहा था तो वह कृष्ण जी ही थे जिन्होंने द्रौपदी की रक्षा की | तभी से रक्षा बंधन मनाया जाने लगा | भाई अपनी बहनो की रक्षा का प्रण लेते है और बहने अपने भाई को जीवन भर प्रेम व सम्मान देने का वचन देती हैं |

रक्षा बन्धन का महत्त्व

रक्षा बन्धन का वास्तिव महत्व यही है की भाई बहन एक दूसरे के प्रेम को समझे व भाई अपनी बहनो की रक्षा करें | इस दिन बहने सुबह सुबह तैयार होकर अपने भाईओ की आरती करके उनके माथे पर तिलक लगा उन्हें मिठाई खिलाती हैं और उनके हाथो पर राखी अर्थात डोरी बांधती हैं | यह डोरी विशेषतः लाल , संतरी और पीले रंग की होती है | इन तीन रंगो को शुभ रंग माना जाता है | इस तरह रक्षा बंधन मनाया जाता है | रक्षा बंधन प्रेम का त्यौहार है यह तो सभी जानते है परन्तु इसका महत्व इससे कही ज्यादा है |

साल भर लड़ने झगड़ने वाले भाई बहन रक्षा बंधन के दिन अपनी सारी लडाइओं को भूल एक दूसरे के लिए अपने प्रेम को उजागर करते हैं | शादी के बाद भी बहने दूर दूर से अपने मायके अपने भाई को राखी बाँधने जाती हैं | सरहदों के परे रहने पर भी राखियां अपने भाइयो के पास भेजी जाती है | राखी केवल खून के रिश्तो तक ही सीमित नहीं है बल्कि यह उससे परे है | खून का रिश्ता न होते हुए भी यदि कोई किसी को दिल से भाई या बहन माने तो भी वह इस त्यौहार को पूरे दिल से मनाते है और आजकल तो बहने भी एक दूसरे को रक्षा का वचन देती है और राखी मनाती हैं |यही राखी का असली महत्व है प्रेम की रक्षा और  रिश्तो की रक्षा |

Letsdiskuss


1
0

Picture of the author