21 जून को ही क्यों अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language

Giggle And Bytes

Trishna Dhanda

Blogger | Posted | News-Current-Topics


21 जून को ही क्यों अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है?





student | Posted


2014 में संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने संबोधन के दौरान प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा:



  • तिथि उत्तरी गोलार्ध में वर्ष का सबसे लंबा दिन है और दुनिया के कई हिस्सों में इसका विशेष महत्व है।
  • 21 जून ग्रीष्म संक्रांति का दिन है जब उत्तरी गोलार्ध में किसी ग्रह की धुरी का झुकाव उस तारे की ओर होता है जिसकी वह परिक्रमा करता है - हमारे मामले में, पृथ्वी और सूर्य।
  • 21 जून को वर्ष का सबसे लंबा दिन माना जाता है, जब सूर्य जल्दी उगता है और उत्तरी गोलार्ध के लिए देर से अस्त होता है।

Letsdiskuss







0
0

Student | Posted


  1. 1 वर्षों में कुल 365 दिन होते हैं। और इन दिनों में 21 जून का दिन अन्य दिनों की तुलना मे वर्ष का सबसे बड़ा दिन होता है। इस दिन सूर्य जल्दी उगता है और देरी से ढलता है। यह माना जाता है कि इस दिन सूर्य का तप और दिनों की अपेक्षा ज्यादा प्रभावी होता है। और यही वह कारण है जिस वजह से 21 जून को 'इंटरनेशनल योगा डे'  मनाया जाता है।Letsdiskuss


0
0

Student | Posted


योग भारतीय संस्कृति का हजारों सालों से हिस्सा रहा है प्राचीन काल में ऋषि मुनि योग के जरिए अपनी शारीरिक और मानसिक शक्ति का विकास किया करते थे। योग हमारी स्वस्थ जीवन शैली को दुरुस्त बनाने के लिए सबसे अहम हथियार है।
आज के समय में भी योग को उतना ही महत्व दिया जाता है जितना कि प्राचीन काल में दिया जाता था। इसीलिए 21 जून को योग के प्रति लोगों को जानकारी देने के लिए योग दिवस मनाया जाता है। लेकिन क्या आपको पता है कि 21 जून को ही क्यों अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। अगर आप को इस बात की जानकारी है तो अच्छी बात है और अगर आपको इस बात की जानकारी नहीं कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को ही क्यों मनाया जाता है, तो आज मैं इस लेख में आपको यह जानकारी दूंगा कि आखिर क्यों अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को मनाया जाता है।

दोस्तों जानकारी के लिए आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक पहल से हुई थी। तारीख थी 27 सितंबर 2014 जब प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने एक भाषण में सभी को मिलकर योग करने की बात कही थी। जिसके बाद संयुक्त राष्ट्र महासभा ने भी प्रधानमंत्री मोदी की बातों को ध्यान में रखते हुए 11 दिसंबर 2014 को एक साथ योग करने की प्रधानमंत्री मोदी की इस पहल का समर्थन करते हुए 21 जून को योग दिवस मनाए जाने को स्वीकार कर लिया था। लेकिन अभी भी यह सवाल उठता है कि आखिर 21 जून को ही क्यों योग दिवस के रूप में चुना गया?

दोस्तों जानकारी के लिए आपको बता दें कि 21 जून उत्तरी गोलार्ध का सबसे लंबा दिन होता है। इस दिन को हिंदू धर्मशास्त्रों के अनुसार ग्रीष्म सक्रांत भी कहा जाता है। हिंदू धर्म ग्रंथों और ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार 21 जून के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाता है ऐसी मान्यता है कि इस दिन हमने योग साधना कर ली तो यह हमारे लिए बहुत ही लाभदायक होगा क्योंकि सूर्य का दक्षिणायन होना आध्यात्मिक ज्ञान प्राप्त करने का एक सही समय होता है। इसी लिए 21 जून को ही अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रुप में मनाया जाता है।

दोस्तों मैं उम्मीद करता हूं कि इस लेख में आपको यह जानकारी मिल गई होगी कि 21 जून को ही क्यों अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है।

Letsdiskuss




0
0

Picture of the author