मृत्युभोज (तेरहवीं) क्यों कराया जाता है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language

Giggle And Bytes

Kush Kumar

Student | Posted | Astrology


मृत्युभोज (तेरहवीं) क्यों कराया जाता है?





student | Posted


मृत्यु भोज जब मनुष्य की मृत्यु हो जाती है, और उसकी आत्मा का उसका शरीर छोड़ने के बाद मानव जीवन मै बोहत से संस्कार मनुष्यों के द्वारा किये जाते है जिनमे से एक संस्कार मृतुभोज का तेरहवीं संस्कार है दशको पहले मनुष्य की मृत्यु होने पर सिर्फ ब्राह्मणों को अमंत्रीत करके भोज करवाते थे लेकिन अब बदलेते समाज को देखते हुए आजकल लोग अपनी इज्जत या लज्जा के कारण भी आजकल मृत्युभोज करवाते है, 


0
0

@ teacher student professor | Posted


Letsdiskuss किसी मनुष्य की मृत्यु के बाद उनके परिवार के सदस्य   तेहरवी का आयोजन करवाते हैं। प्राचीन समय में इस भोज में सिर्फ ब्राह्मणों को भोजन करवाया जाता था माना जाता है कि ब्राह्मणों को भोजन करवाने से मनुष्य की आत्मा को शांति प्राप्त होती है और उसे स्वर्ग की प्राप्ति हो जाती हैं। परंतु आज के समय में ब्राह्मणों के साथ-साथ अपनी बिरादरी को भी भोजन करवाया जाता है। यह समागम विवाह के समागम की भांति ही शानदार होता जा रहा है, देखने में ऐसे प्रतीत होता है कि मरने से के परिवारजनों को गम कम  खुशी ज्यादा हो रही हो।  मेरी राय केेेेे अनुसार यह समागम साधारण तरीके से किया जाना चाहिए। 






0
0

Picture of the author