मे पूछना चाहता हूँ जो ये शादी पार्टी मे बेफिजूल के खर्चे होते है क्या वो करना सही है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language



Blog
Earn With Us

Brij Gupta

Optician | Posted on | others


मे पूछना चाहता हूँ जो ये शादी पार्टी मे बेफिजूल के खर्चे होते है क्या वो करना सही है ?


0
0




Content Writer | Posted on


नमस्कार ब्रिज जी ,आपका सवाल बहुत ही अच्छा है क्योकि आज देश जहा इतनी परेशानियों से गुज़र रहा है वही पर लोग ये फिजूल खर्चे करते क्यों है | आपकी बात से मे भी सहमत हूँ जो लोग फ़िज़ूल का खर्चा करते है उससे उनको सिर्फ अपने बड़ेपन होने का एहसास होता है | बस उनका सोचना है के मैंने इतना कमाया है तो मे खर्च कर रहा हूँ पर वो ये नहीं सोचते की अगर पैसा उन्होंने कमाया भी है तो उसमे भी तो उन्होंने परिश्रम किया है | वो पैसो की रौशनी मे सब भूल जाते है ,यहाँ तक की अपनी खुद की मेहनत भी |

शादियों मे और अन्य पार्टियों मे इतना सजावट करवाते है लोग वो भी सिर्फ दिखने के लिए | आज कल के समय मे तो सजावट भी नाम से होती है | flowers डेकोरेशन चाहिए या गुब्बारों वाला डेकोरेशन चाहिए | किसी जन्म दिन पर भी सजावट जन्म दिन किसका का लड़के का या लड़की का इसके हिसाब से सजावट होती है | शादियों मे भी सजावट और खाने के मामले मे बस पैसा ही बोलता है | ऐसे मे इंसान की नहीं सिर्फ चीजों की कीमत रह जाती है |

इतने प्रकार का खाना बनवाते है लोग सिर्फ दिखने के लिए | इतना खाना बर्बाद होता है | वो खाना लोग फेंक देते है पर किसी जरूरत मंद को नहीं देते | ये बहुत ही गलत बात है | ऐसा नहीं होना चाहिए | खर्च करो पर उतना जो बेफिजूल न लगे | चाहे पैसा आपका अपना ही क्यों न हो पर मेहनत तो उसमे भी लगी है | और एक बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए "अगर आप बड़े बने हो तो वो सिर्फ आपकी मेहनत नहीं होती,आपके साथ साथ उस सबकी मेहनत है जो आपके साथ जुड़े हुए है |"


Letsdiskuss


16
0

Occupation | Posted on


मेरे ख्याल से तो माँ बाप अपने बच्चो की शादी को लेकर ज्यादा ही खुश हो जाते है जिस वजह से वह शादी मे कुछ बेफिजूल के खर्चे कर देते है। जैसे कि शादी से पहले तेल चढ़ाने की रस्म इसमें बेफिजूल का ही खर्च है, क्योंकि यदि आप वही तेल गरीबो को दान देंगे तो वह बदले मे आपको दुवा देंगे। इसके अलावा शादी के बाद अलग से रिस्पेक्शन पार्टी रखते है उसमे भी बेफिजूल का ही खर्चा होता है।Letsdiskuss


0
0

Picture of the author