वर्गीज कुरियन कौन थे, इन्हे ‘श्वेत क्रांति का जनक’ क्यों कहा जाता है ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language



Blog
Earn With Us

सृष्टि वर्मा

Fashion Designer... | Posted on | Entertainment


वर्गीज कुरियन कौन थे, इन्हे ‘श्वेत क्रांति का जनक’ क्यों कहा जाता है ?


0
0




Choreographer---Dance-Academy | Posted on


वर्गीज कुरियन AMUL कंपनी के संस्थापक है | जिन्होंने AMUL की स्थापना की | अब AMUL क्या है, ये तो शायद बताने की जरूरत नहीं है | AMUL का पूरा नाम Anand Milk Union Limited है | वर्गीज कुरियन को "श्वेत क्रांति का जनक" अर्थात "फादर ऑफ़ वाइट रेवोलुशन" के नाम से भी जाना जाता था | उनको यह नाम इसलिए दिया गया क्योकि वर्गीज कुरियन ने भारत को दूध की कमी से जूझने वाले देश के स्थान पर दुनिया का सबसे अधिक दूध उत्पादक वाला देश बनाने में सहायता की और साथ ही उन्होंने सहकारी दुग्ध उद्योग मॉडल की आधारशिला रखी |

वर्गीज कुरियन :-
AMUL के संस्थापक वर्गीज कुरियन का जन्म केरल के कोझिकोड 26 नवम्बर 1921 को हुआ है | उन्होंने चैन्नई के "लोयला कॉलेज" से विज्ञान में 1940 में स्नातक किया और साथ ही चेन्नई की ही "जीसी इंजीनियरिंग कॉलेज" से इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की। उन्होंने अपने जीवन काल में काफी साडी डिग्री प्राप्त की | 9 सितम्बर 2012 में उनकी मृत्यु हो गई |

Letsdiskuss
वर्गीज कुरियन के बारें में कुछ और आश्चर्यजनक तथ्य :-

1. वर्गीज कुरियन ने भारत में श्वेत क्रांति शुरू की और इसका नतीजा यह हुआ कि किसान की पहली मदर डेयरी का विकास हुआ |

2. उन्होंने NDDB (National Dairy Development Board) और GCMMF (Gujarat Cooperative Milk Marketing Federation Ltd) की नींव भी रखी।

3. वर्गीज कुरियन को प्राप्त हुए महान सम्मानों में से प्रमुख पद्मश्री (1965), पद्मभूषण (1966), और पद्मविभूषण (1999) में मिले थे। उन्हें मिशिगन स्टेट यूनिवर्सिटी से 1965 में उनके कार्यों के लिए मानद उपाधि भी मिली।

4. वह "I Too Had A Dream" के लेखक हैं, जो कि किसानों के सशक्तिकरण के साथ-साथ भारत में दूध सहकारी समितियों के उत्पादन के बारे में है। इसका प्रस्ताव डॉ रतन टाटा ने लिखा था।

5. उनका जन्मदिन राष्ट्रीय दूध दिवस के रूप में मनाया जाता है।

6. भैंस के दूध से पाउडर दूध का उत्पादन करने की भारत में first milk powder plant की शुरुवात हुई |


0
0

Picture of the author