जब आप भूखे न हों तब भी आपको क्या खाना पसंद है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language



Blog

shweta rajput

blogger | Posted on | Sports


जब आप भूखे न हों तब भी आपको क्या खाना पसंद है?


0
0




blogger | Posted on


जब मै भुखा न रहता हु और कुछ खाने का मन करता है तो चिप्स बिस्किट खाता हु


0
0

teacher | Posted on


पहली बात भुख न लगने पर भी कुछ खाना बहुत ही खतरनाक है वैसे मै कुछ नही खाता


0
0

आचार्य | Posted on


कोई भुखा ना हो और वो खाना खाये उसे तो मन्द बुद्धि ही बोलेंगे


0
0

| Posted on


जब मुझे भूख नहीं होती है तो मुझे कुछ भी खाना पसंद नहीं होता और ना ही कुछ खाने का मन करता है। लेकिन कभी-कभी ऐसा भी होता है  जब मुझे भूख नहीं रहती है तो मैं अमरूद खा लेती हूं क्योंकि अमरुद मुझे बहुत ही पसंद है। और भी ऐसी कई चीजें हैं जिन्हें  मैं बिना भूख के खा लेती हूं। जैसे कि कुरकुरा, चिप्स, पंजाबी तड़का, बिस्किट, नमकीन, ये सब चीजें मैं बिना भूख के खा लेती हूं। क्योंकि मुझे यह बहुत पसंद है। और इन्हें खाने से मेरे सेहत को  कोई भी नुकसान नहीं पहुंचता है। इसलिए मैं इन्हें खा लेती हूं। क्योंकि जब मैं चटपटी चीजें देखती हूं और अमरूद देखती हूं तो मुझे बिना भूख के ही भूख लग आती  है।Letsdiskuss


0
0

student | Posted on


नमकिन बिस्कुट 


0
0

Occupation | Posted on


ज़ब मुझे भूख तो रहती है लेकिन मुझे खाना खाने का मन नहीं करता हैं, ऐसे मे मुझे कुछ चटपटा, हल्का खाने का मन करता हैं तो ऐसे मुझे नमकीन, आलू भुजिया, पंजाबी तड़का, पापकॉन आदि चीजों को खाने का मन करता हैं, क्योंकि यह ऐसी चीजे हैं जिस किसी को भूख ना हो वो भी चटपटी चीजों को देखते ही उनका मन भी खाने को करने लगता हैं।

Letsdiskuss


0
0

student | Posted on


आप  को पहचानना है कि यह एक बुरी आदत है जिसे आप बदलना चाहते हैं तो इस तथ्य को स्वीकार करें कि आप अपने कार्यों के नियंत्रण में हैं और कोई भी भावना नहीं है। आप इस आदत से छुटकारा पाने में मदद करने के लिए न्यूरोप्लास्टिक / ब्रेन रिवाइरिंग नामक एक अवधारणा का उपयोग कर सकते हैं।

यहां चार प्रमुख चरण दिए गए हैं:

  • इसे स्वीकार करना सिर्फ एक आदत है और माइंडलेस खाने की ललक आपके निचले मस्तिष्क से सिर्फ एक न्यूरोलॉजिकल जंक है जबकि आपका मानव मस्तिष्क हमेशा खाने की क्रिया को वीटो करने की शक्ति रखता है।
  • जब भी आप अपने आप को नासमझ खाने के आग्रह के साथ उत्साहित पाते हैं क्योंकि एक बुरी आदत को फिर से स्थापित करने का एकमात्र तरीका उस स्थिति में होना है और उस पर कार्य नहीं करना है।
  • आग्रह को खारिज करें और समझें कि यह कुछ भी गहरा नहीं दर्शाता है और आपका मानव मस्तिष्क आपके खाने की क्रियाओं के नियंत्रण में है। अधिक खाने के आग्रह पर कार्रवाई मत करो।
  • सफल होने के लिए खुद को बधाई दें क्योंकि मस्तिष्क सकारात्मक भावना पर पनपता है।

Letsdiskuss



0
0

Picture of the author