शिशु अपहरण को रोकने के लिए कौन से कदम उठाना चाहिए ? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language


Ruchika Dutta

Teacher | Posted on | others


शिशु अपहरण को रोकने के लिए कौन से कदम उठाना चाहिए ?


0
0




| Posted on


इस वक्त शिशु अपहरण के बहुत सारे मामले देखने को मिल रहे हैं. इनमें से कई मामले तो फिरौती के लिए होते हैं तो कई अंग निकालने वाले गिरोहों की करतूत होती है. शिशु अपहरण करने वाला गिरोह अधिकांश बच्चों को मार देता है. ऐसे में जरुरी है कि बच्चों को आत्म रक्षा करना सिखाया जाए. इसके लिए बच्चों को प्रशिक्षित करना बेहद जरुरी होता है.


1.    बच्चों के मन में विश्वास जगाया जाए : बच्चों के मन में यह बात जरुर डाल दें कि कुछ भी गलत होता समझ आए तो उसका विरोध करे और स्वयं के अंदर अपराध बोध को न पनपने दे.


2.    बच्चों को घटनाओं से अवगत कराएं : बच्चों को शिशु अपहरण की घटनाओं से अवगत कराएं या उनके सामने इसकी चर्चा करें ताकी उनके अंदर सावधानी की भावना आ जाए.


3.    कभी कभी चीखना है जरुरी : बच्चों को सिखाएं कि कभी कभी सामने वाले की नीयत खराब लगे तो जोर जोर से चीखना शुरु कर दें. इससे आसपास के लोग तुरंत सहायता के लिए तैयार हो जाए.


4.    अनजान लोगों से दूरी : बच्चों को यह समझाएं कि भूलकर भी अनजान लोगों से लिफ्ट न लें.


5.    बच्चे की जेब में जरुरी जानकारी : बच्चे की जेब में उसका नाम, मम्मी, पापा का मोबाइल नंबर, पड़ोस के किसी अंकल का नंबर, किसी रिश्तेदार का नंबर के साथ साथ पुलिस स्टेशन का नंबर जरुर डाल कर रख दें.


6.    आत्मरक्षा के गुर सिखाएं : संभव हो तो बच्चों को सेल्फ डिफेंस क्लासेज ज्वाइन कराएं अन्यथा स्वयं ही उन्हें आत्मरक्षा के उपाय सुझाएं. आत्मरक्षा के लिए सबसे बेहतरीन उपाय है, कुछ भी गलत समझ आने पर जोर जोर से चीखना और चिल्लाना.



0
0

Picture of the author