70 साल बाद भारत पाकिस्तान से आगे क्यों है? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language



Blog

parvin singh

Army constable | Posted on | Education


70 साल बाद भारत पाकिस्तान से आगे क्यों है?


0
0




phd student | Posted on


क्योकि उन्हें बम बनाकर फूटने से फुर्सत ही नही हैं


0
0

Army constable | Posted on


  • उन्होंने एक भी नागरिक सरकार को अनुमति नहीं दी। अच्छी तरह से चलाने के लिए पूरा कर सकते हैं।
  • उनकी सेना सुरक्षा प्रदान करने के बजाय बुनियादी जरूरतों के निर्माण जैसे कॉर्पोरेट जगत में शामिल हो गई है।
  • वे अपने विकास से ज्यादा कश्मीर पर ध्यान केंद्रित करते हैं।
  • वे अमेरिका के नेतृत्व वाले समूह में शामिल हो गए और यूएसएसआर से लड़ने के नाम पर एक कठपुतली बन गए।
  • उन्हें आतंकवाद से लड़ने के नाम पर अरबों डॉलर मिले, लेकिन लड़ने के बदले पैसा उनके उच्च स्तर के सैन्य अधिकारियों के बैंक खातों में चला गया, जिससे नागरिकों और देश दोनों को गरीबी का खतरा हो गया।
  • वे हाफ़िज़ सईद, मसूद अजहर, दाउद इब्राहिम जैसे आतंकवादी को परेशान करते हैं।
  • वे अपने अल्पसंख्यकों को गुलामों की तरह मानते हैं। (1947 से अब तक के अल्पसंख्यकों की रचना को देखें)।
  • उनका अधिकांश बजट सेना में जा रहा है, और इसके बावजूद उनकी सेना विश्व स्तर की नहीं है। हम सभी जानते हैं कि पैसा कहां जा रहा है।
  • IMF से हालिया जमानत उनकी 13 वीं थी। वे गलतियों से नहीं सीखते हैं।
  • हाल के पीएम इमरान खान एक प्रकार के आतंकवादी हैं, जिन्हें शुरुआती राजनीतिक दिनों के दौरान तालिबान के समर्थन के लिए तालिबान खान कहा जाता है।
  • पाकिस्तान सेना कभी भी स्वतंत्र नागरिक सरकार नहीं चाहती है। पतवार पर आना।
  • सवाल यह है कि पाक सेना अपने नागरिक सरकार को मुफ्त हाथ क्यों नहीं देती। सवाल काफी सरल है
  • पाक सेना, कश्मीर के बारे में बयानबाजी करने के लिए सरकार को मजबूर करती है। विश्व मंच पर पाक पीएम पूरी दुनिया को परमाणु खतरा देते हैं

उनके लिए यह दुनिया भर के देशों को आतंकवाद से लड़ने के नाम पर पाकिस्तान को सहायता बढ़ाने के लिए मजबूर करेगा। एक बार जब पैसा आना शुरू हो जाएगा, तो इसका इस्तेमाल सेना के शीर्ष जनरलों की जेब भरने के लिए किया जाएगा।


एक बार सेवानिवृत्त हो चुके ये जनरल विदेशों में बस गए, जिनके साथ पाकिस्तान ने दोहरी नागरिक जहाज व्यवस्था की है। एक बार जब वे वहां बस जाते हैं, तो वे पाक नागरिकता को त्याग देते हैं, ताकि अगर उन्हें जवाबदेह बनाने की थोड़ी सी भी संभावना हो, तो वे आसानी से बच सकते हैं।


शॉर्ट आर्मी में शीर्ष जनरलों के लिए एक नकद गाय है जो आतंकवाद से लड़ने के नाम पर सिर्फ दूध का पैसा चाहते हैं।

तो संक्षेप में पाकिस्तान एक राष्ट्र या राज्य नहीं है, बल्कि एक पैसा बनाने वाली मशीन है।


नोट: आज भी अगर एक स्वतंत्र नागरिक सरकार है। पाकिस्तान में आने से स्थिति में काफी सुधार होगा। यहां तक ​​कि भारत के साथ इसके संबंध भी सुधरेंगे। लेकिन ऐसा होने के लिए लोगों को अपनी सेना के खिलाफ हथियारों के साथ आना होगा और एक अन्य स्वतंत्रता आंदोलन के लिए लड़ना होगा।


जय हिन्द।


Letsdiskuss



0
0

student | Posted on


क्योकी ये हमेशा आतंकवाद का समर्थन करते है


0
0

Picture of the author