लसिका किसे कहते हैं? - letsdiskuss
Official Letsdiskuss Logo
Official Letsdiskuss Logo

Language



Blog
Earn With Us

Poonam Patel

| Posted on | Education


लसिका किसे कहते हैं?


9
0




Blogger | Posted on


हमारे शरीर में रक्त लगातार हर्दय की और जाता है और अंगो के पास वापिस आता है इसे परिसंचरण कहते है। पर इसके अतिरिक्त एक और परिसंचरण तंत्र है जो बन्द वाहिनियों का परिसंचरण तंत्र कहलाता है इसेलसिक तंत्र कहते है। लसीका एक स्वच्छ तरल है जो रक्त कोशिकाओं से बाहर आ जाता हैं और सभी ऊतक गुहाओ को गिला रखता है। लसिका का निर्माण अंतराकोशिकीय स्थान में होता है। लसिका तंत्र प्रतिरक्षा प्रणाली का हिस्सा है। यह शरीर में तरल पदार्थ के स्तर को संतुलित रखता है और शरीर को संक्रमणों से बचाता है। लसीका , ऊतक, अंग और ग्रंथिया सब मिल कर शरीर से पानी जैसे तरल पदार्थ को बाहर निकालने के लिए एक साथ काम करती हैं ।रक्त और लसिका मे अंतर है। रक्त लाल रक्त कोशिकाओं, श्वेत रक्त कोशिकाओं , और प्लेटलेट्स और प्लाज़मा नामक तरल पदार्थ से बना होता है जबकि लसिका श्वेत रक्त कोशिकाओं और पानी जैसे तरल पदार्थ से बनी होती हैं। Letsdiskuss

और पढ़े--हरितलवक किसे कहते है तथा यह क्या कार्य करता है?


5
0

| Posted on


लसिक रुधिर वाहिनियों तथा ऊतकों के मध्य खाली स्थान में एक रंगहीन तरह स्वच्छ पदार्थ के रूप में पाया जाता है मनुष्य के शुद्ध अशुद्ध रक्त अलग-अलग प्रवाहित होते हैं कोशिकाओं का पोषक तत्व गैस हामोन्स तथा एंजाइम्स आदि को पहुंचाने का काम करता है तब उसका (रुधिर रस) कुछ भौतिक रासायनिक शारीरिक प्रतिक्रियाओं के द्वारा कोशिकाओं की पतली दीवारों छनकर बाहर जाता है लसीक का शरीरस्थ अधिष्ठान लसिक तंत्र कहलाता है लसिक निर्माण अंतर कोशिका स्थान में होता है जो बंद वाहिनी वाहिनियों का परिसचरण करती है शरीर को संक्रमण से बचाती है ये कोशिका के सदुश केवल एक स्तर से होती है लसिक तंत्र प्रतिरक्षा प्रणाली का हिस्सा है हमारे शरीर का रक्त लगातार हृदय की ओर जाता है लसिका तंत्र मुख्य भूमि सूक्ष्म जीवो में जीवो के खिलाफ एक फिल्टर के रूप में कार्य करना इस पानी में छोटे-छोटे पदार्थ पाए जाते हैं लसिक तंत्र इसमें कम कैल्शियम कुछ रक्त कम प्रोटीन पोटेशियम कुछ ग्लूकोस है Letsdiskuss

और पढ़े--कॉफिन बर्थ किसे कहते हैं?


4
0

| Posted on


लसीका रुधिर वाहिनियो तथा ऊतकों के मध्य खाली स्थान मैं एक रंगहीन स्वच्छ तरल पदार्थ के रूप में पाया जाता है। रुधिर प्लाज्मा रुधिर केशिकाय की पतली दीवार से छानकार ऊतक कोशिकाओं के संपर्क में आ जाता है इस छने हुए द्रव को लसीका कहते हैं। लसीका एक तरल स्वच्छ है जो कोशिका से बाहर आ जाता है। और सभी ऊतक गुहाओ गीला रखता है। लसीका में रुधिर कणिकाएं नहीं पाए जाते है।लसिका में WBCs अधिक पाया जाता है।इस समय ऑक्सीजन तथा पोषक पदार्थ की मात्रा अपेक्षाकृत कम होती है इसमें Co तथा उत्सर्जी पदार्थ की मात्रा अधिक होती है। लसीका अंगों व लसीका ग्रंथियां में लिंफोसाइट का निर्माण होता है।जो जीवाणुओं को भक्षण करते हैं। यह कोमल अंगों की रक्षा करने तथा उन्हें रगड़ से बचाने में मदद करता है। कोशिकाओं तक पोषक तत्व गैस हारमोंस तथा एंजाइम्स आदि को पहुंचाने का कार्य करता है।Letsdiskuss

और पढ़े-- फंक्शनल फूड किसे कहते हैं?


3
0

| Posted on


दोस्तों आप सभी ने बचपन से लेकर कक्षा 12 तक लसिका तंत्र के बारे में तो पढ़ा ही होगा तो आपको तो मालूम होगा ही की लसिका तंत्र क्या होता है और जिन लोगों को मालूम नहीं है तो चलिए हम उनको बताते हैं कि आखिर लसिका तंत्र होता क्या है।

लसीका रुधिर वाहिनियों तथा ऊतकों के मध्य खाली स्थान में एक रंगहीन तरल स्वच्छ पदार्थ के रूप में पाया जाता है, रुधिर प्लाज्मा रुधिर कोशिका को छानकर एक पतली परत बनता है जिसे हम लसीका कहते हैं। हम आपकी जानकारी के लिए बता दें कि लसीका में रुधिर कणिकाएं नहीं पाई जाती, इसके अलावा लसीका में WBCs अधिक पाया जाता है। लेकिन उसे समय ऑक्सीजन और पोषक पदार्थ की मात्रा बहुत ही कम पाई जाती है। लसीका अंगों या लसीका ग्रंथियां में लिंफोसाइट का निर्माण होता रहता है।

Letsdiskuss


2
0

');